SOURCE: AL ARABIYA

यमन के हुती विद्रोही और सऊदी समर्थित अरब गठबंधन के बीच लड़ाई की एक श्रृंखला के परिणामस्वरूप मंगलवार को अल जौफ में कई मोर्चों में दर्जनों हुती विद्रोहियों की मौत हो गयी.

अल अरेबिया के मुताबिक, मरने वालों में हुती नेता मोक्तादा अल-असार  भी शामिल था जो अल-मतून जिले में एक लड़ाई में मारा गया.  सेना के सूत्रों ने कहा कि उत्तरी और पश्चिमी अल-जौफ में अल-मतून, अल-मसलूब, खाब और अल-शाफ और बार्ट अल-अनान जिलों में हुतियों और सेना के बीच घमासान संघर्ष हुआ.

अरब नामा को मिली जानकारी के मुताबिक, अरब गठबंधन ने अल-मसलूब में हुती सैन्य गढ़ों को लक्षित करने के लिए हवाई छापे किए. अरब गठबंधन ने कई अन्य हवाई छापे किए, इमरान गवर्नरेट के उत्तर में स्थित दक्षिणी सादा के साथ-साथ होदेइदाह में हुती सैन्य सभाओं को लक्षित किया, जिसके परिणामस्वरूप दर्जनों विद्रोहियों की मौतें हो गयी.

यमन की पांच दिवसीय यात्रा के लिए संयुक्त राष्ट्र दूतावास के बाद ये अभियान चलाया गया, जहां उन्होंने कई हुती नेताओं से मुलाकात की. संयुक्त राष्ट्र दूतावास मार्टिन ग्रिफिथ्स ने सना से अपने प्रस्थान से पहले एक बयान जारी किया, जो बिगड़ती मानवीय स्थितियों और बातचीत में समय बर्बाद करने के लिए एक राजनीतिक समाधान की चिंता ज़ाहिर की.

संयुक्त राष्ट्र दूतावास ने होदेइदाह में लड़ाइयों को रोकने के लिए सभी पार्टियों को मनाने और व्यापार उड़ानों के लिए साना में हवाई अड्डे को फिर से खोलने के लिए अपने सहायता प्रयासों को जारी रखने पर जोर दिया.