तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन ने कल सऊदी अरब की तेल सुविधाओं पर 14 सितंबर के हम’लों के लिए ईरान को दोषी ठहराने पर सावधानी बरतने का आग्रह किया।

फॉक्स न्यूज के साथ एक साक्षात्कार के दौरान बोलते हुए, एर्दोगन ने कहा: “मुझे नहीं लगता कि ईरान को दोष देना सही होगा”, यमन के कई हिस्सों से हम*ले हुए, और जिम्मेदारी हौथी आंदोलन ने ली है।

उन्होने कहा, “अगर हम सिर्फ ईरान पर पूरा बोझ डालते हैं, तो यह जाने का सही तरीका नहीं होगा। क्योंकि उपलब्ध साक्ष्य आवश्यक रूप से उस तथ्य की ओर इशारा नहीं करते।”

बता दें कि तुर्की नेता ने पहले संकेत दिया था कि सऊदी अंततः हम*लों के लिए ज़िम्मेदार है क्योंकि जिसने भी ब*म गिराए उसे सबसे पहले दोष देना होगा। उन्होने यमन पर सऊदी के नेतृत्व वाले गठबंधन के हवाई हम*लों की ओर इशारा किया।

सोमवार को अपने रूसी और ईरानी समकक्षों के साथ एक संवाददाता सम्मेलन में बोलते हुए, एर्दोगन ने कहा: “यमन पर सबसे पहले ब*म किसने गिराए? यदि उस प्रश्न का उत्तर मिल सकता है, तो मेरा मानना है कि हम इस निष्कर्ष पर पहुंचेंगे कि वर्तमान बिंदु एक उकसावे वाला है।”