युगांडा मीडिया के अनुसार, संयुक्त अरब अमीरात में युगांडा लड़कियों के बीच पिछले साल 16 आत्महत्या दर्ज की गई थीं। देश के कुछ सांसदों ने दावा किया कि उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात की हालिया यात्रा के दौरान अपनी आंखों के साथ देखा था कि युगांडा लड़कियों को दुबई के बाज़ारों में वस्तु की भाति खरीदा और बेचा जा रहा था।

इस संबंध में, यूगांडा के विदेश मंत्रालय ने अमरीका में मौजूद अपने राजदूत नीमिशा माधवानी को परामर्ष के लिए देश वापस बुलाया है। युगांडा के विदेश मंत्री सैम कोट्टा, संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्री अब्दुल्ला बिन जयद के संपर्क में हैं उन्होंने कहा कि हमारा देश इस प्रकार के मुद्दे की निंदा करता है, और संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्रालय से मांग की है कि इस मुद्दे पर तत्काल कार्यवाई की जाए। उन्होंने संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्री से जल्द से जल्द इस मुद्दे को हल करने का आग्रह किया है।

अंतर्राष्ट्रीय रिपोर्टों ने पुष्टि की है कि संयुक्त अरब अमीरात दासता का एक बड़ा बाजार बन गया है, और आधुनिक समय में यह देश इसका सबसे बड़ा प्रतीक है।

संगठनों ने संयुक्त अरब अमीरात पर मानव तस्करी और एशियाई एवं गैर-एशियाई श्रमिकों की आधुनिक दासता का आरोप लगाया है। एक बार कर्मचारी संयुक्त अरब अमीरात में आता है, तो वह अपने पहचान दस्तावेजों और यात्रा के अधिकार को खो देता है। यह संयुक्त अरब अमीरात में नियोक्ताओं के लिए दासता का बंधन है। संयुक्त अरब अमीरात में यह नियोक्ताओं और श्रमिकों के बीच होने वाले करार का हिस्सा है।