संयुक्त अरब अमीरात (यूएई)ने अपना पहला ऐस्ट्रानॉट अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन पर भेज दिया है,UAE पिछले दो सालों से इसकी तैयारी कर रहा था, यूएई से हज्जा-अल-मंसूरी सोयूज रॉकेट से स्पेस स्टेशन गए. पीएम मोदी ने हज्जा को बधाई दी।भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो (Indian Space Research Organization – ISRO) का मानव अंतरिक्ष मिशन गगनयान 2022 में रवाना होगा.

लेकिन, दो साल पहले ह्यूमन स्पेस मिशन की तैयारी करने वाले संयुक्त अरब अमीरात (UAE) ने अपना पहला एस्ट्रोनॉट अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन (International Space Station – ISS) के लिए भेज दिया है।पहली बार ही किसी इस्लामिक देश से कोई एस्ट्रोनॉट ISS पहुंचा है. UAE से पूर्व वायुसेना फाइटर पायलट हज्जा-अल-मंसूरी रूसी अंतरिक्ष यान सोयूज एमएस-15 से ISS गए. यह प्रक्षेपण कजाखस्तान के बैकोनूर कॉस्मो़ड्रॉम से किया गया था।

हज्जा-अल-मंसूरी के साथ अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री जेसिका मीर और रूसी कॉस्मोनॉट ओलेग स्क्रिपोचका भी अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन गए हैं. ओलेग स्क्रिपोचका तीसरी बार इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन गए हैं, जबकि बाकी दोनों यात्री पहली बार।

3 सितंबर 2018 को, यूएई ने पहले दो अमीराती अंतरिक्ष यात्रियों, हज्जा अल मंसूरी और सुल्तान-अल-नेयादी के नामों की घोषणा की थी. इसके बाद इनकी एक साल तक ट्रेनिंग चली. इन एस्ट्रोनॉट्स ने 90 से अधिक पाठ्यक्रमों की पढ़ाई की और 1,400 से अधिक घंटे की ट्रेनिंग ली।

दुबई के क्राउन प्रिंस और मोहम्मद बिन राशिद अंतरिक्ष केंद्र के अध्यक्ष शेख हमदान बिन मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम ने इस ऐतिहासिक उपलब्धि को राष्ट्रपति शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान; यूएई के उपाध्यक्ष और प्रधानमंत्री और दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम और अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के उप सर्वोच्च कमांडर शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान को समर्पित किया।