तुर्की के विदेश मंत्री मीवलट कैवसुग्लू मीडिया के सामने अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा कि, यदि संयुक्त राज्य अमेरिका लॉकहीड मार्टिन के एफ -35 जेट खरीदने की अनुमति नहीं देता है तो तुर्की कहीं और जाएगा.

पिछले हफ्ते एक अमेरिकी सीनेट समिति ने 716 अरब डॉलर के रक्षा नीति बिल के अपने संस्करण को पारित किया, जिसमें तुर्की को जेट खरीदने से रोकने की बात कही गयी थी, हालाकि तुर्की ने अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा था की अगर अमेरिका ने फाइटर जेट की बिक्री पर रोक लगाई तो तुर्की अमेरिका क इस बात का मुह तोड़ जवाब देगा.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर के मुताबिक, जर्मनी की यात्रा से वापसी की उड़ान पर संवाददाताओं से बात करते हुए, कैवसुग्लू ने कहा कि जेट प्रशासन खरीदने के लिए एक समझौता करने के लिए अमेरिकी प्रशासन से अभी तक कोई दबाव नहीं पड़ा है, वाशिंगटन अपनी मर्जी से काम नहीं कर सकता है.

हाल ही के महीनों में अंकारा और वाशिंगटन के बीच संबंध कई मामलों में तनावग्रस्त हो गए हैं, जिसमें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के इज़राइल में अमेरिकी दूतावास को खोलना और सीरिया में यरूशलेम और अमेरिकी नीति पर कब्जा करने का निर्णय शामिल है.

तुर्की ने सीरिया में वाईपीजी के खिलाफ जनवरी से उत्तरी सीरिया के अफ्रिन क्षेत्र से आंतंकवादियों का सफाया किया है जबकि वाशिंगटन ने वाईपीजी आतंकवादियों का सफाया किया है. जिसे अंकारा तुर्की में अवैध कुर्द आतंकवादियों से जुड़े एक आतंकवादी संगठन को मानता है.

राष्ट्रपति तय्यिप एर्दोगान ने पहले वाईपीजी के खिलाफ तुर्की के परिचालन को आगे बढ़ने की धमकी दी है, जहां अमेरिका की सेनाएं तैनात हैं, सहयोगियों के बीच टकराव का खतरा है.

हालांकि, अंकारा और वाशिंगटन मनबीज पर सहमत हो गये है, जिसमें आतंकवादियों ने क्षेत्र छोड़ दिया है, कैवसुग्लू ने कहा कि अगले हफ्ते अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ के साथ उनकी वार्ता के दौरान योजनाओं के लिए आगे की बात की जाएगी.