इंग्लैंड के प्रीमियर लीग क्लब आर्सेनल स्टार मेसुत ओज़िल ने शुक्रवार को शीजियांग में उइगरों के चीन के उत्पीड़न को लेकर मुसलमानों पर चुप रहने का आ’रोप लगाया।

अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर तुर्की इंटरनेशनल ने हेडलाइन के तहत लिखा, ” ईस्ट तुर्किस्तान: ब्लीडिंग वाउंड ऑफ इस्लामिक उम्मा, ” उइगरों को ” उन योद्धाओं को ” जो उत्पी’ड़न का वि’रो’ध करते हैं ” … शानदार विश्वासी जो अकेले उन लोगों से लड़ाई करते हैं जो जबरदस्ती लोगों को इस्लाम से दूर कर देते हैं। ”

चीन में, उन्होंने लिखा है:

कही क़ुरान को जलाया जाता है … मस्जिदों को बंद कर दिया गया … इस्लामी धार्मिक स्कूलों, मदरसों पर प्रतिबंध लगा दिया गया … धार्मिक विद्वानों को एक-एक करके मा’र डाला गया … इन सबके बावजूद, मुसलमान चुप रहे। क्या वे नहीं जानते कि उत्पीड़न के लिए सहमति देना खुद पर अत्या’चार है?

चीन पर उइगर, एक तुर्क मुस्लिम समूह के खिलाफ दमनकारी नीतियों को अंजाम देने और उनके धार्मिक, वाणिज्यिक और सांस्कृतिक अधिकारों को प्रतिबंधित करने का आ’रोप है।