तुर्की ने बड़ा फैसला लेते हुए घोषणा की है वह सीरिया के युद्धग्रस्त इलाकों की सभी मस्जिदों का पुर्निर्माण कराएगा. आतंकवादी समूहों के क्रूर शासन से निकलने और पीकेके के सीरियाई सहयोगी, पीपुल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स (वाईपीजी), सीरिया के उत्तर में कस्बों को पुनर्निर्माण और सामाजिक पुनरुत्थान के लिए देख रहे हैं.

तुर्की मीडिया के मुताबिक, तुर्की के राज्य संचालित प्रेसीडेंसी ऑफ रिलिजनियस अफेयर्स (डीआईबी) मस्जिदों को बहाल करने और धार्मिक शिक्षा को पुनर्जीवित करने के लिए तुर्की सशस्त्र बलों (टीएसके) की मदद से मुक्त शहरों में सिरियाई लोगों की मदद कर रहा है. तुर्की ने इस क्षेत्र में इस्लाम को विकृत करके फैले चरमपंथ के खिलाफ लड़ाई में एक सहायक हाथ भी बढ़ाया है.

दीनबेट फाउंडेशन, डीआईबी से जुड़े एक गैर-लाभकारी, ने मस्जिदों, धार्मिक विद्यालयों और आतंकवादी समूहों द्वारा क्षतिग्रस्त इसी तरह की सुविधाओं को बहाल करने के लिए टीएल 10 मिलियन (1.61 मिलियन डॉलर) से अधिक खर्च किया है. डीआईबी ने अतिवाद के खिलाफ लड़ाई को बढ़ावा देने के लिए अरबी में 30 वीडियो भी तैयार किए है.

आपको बता दें की तुर्की ने 2016 में देश आतंकवादियों को अपनी सीमाओं से दूर करने के लिए फ्री सीरियाई सेना (एफएसए) के साथ संचालित ऑपरेशन यूफ्रेट्स लॉन्च किया। ऑपरेशन के परिणामस्वरूप, लगभग 3,000 देश आतंकवादियों को हटा दिया गया, और उत्तरी सीरिया में 2,000 किलोमीटर-वर्ग क्षेत्र को जारब्बलस, दबीक और अल-बाब समेत मुक्त कर दिया गया.

इसके अलावा, तुर्की में सक्रिय पीकेके से जुड़े वाईपीजी के आतंकवादियों को सीरिया के अफ्रिन से सीरिया में तुर्की के दूसरे पार सीमा अभियान ओलिव ब्रांच करके आतंवादियों का सफाया किया था. अब तुर्की ने सीरिया के इद्लिब से आतंकवादियों का नामोनिशान खत्म करने का वादा किया है.