शनिवार को तुर्की के राष्ट्रपति रजब तय्यब एर्दोआन ने कहा कि तुर्की इस बात को खारिज करता है कि इ’जरा’यल ने यरुशलम को अपनी राजधानी घोषित करने का मुद्दा एक सौदा है।

ताजिकिस्तान की राजधानी दुशांबे में एशिया (CICA) में इंटरेक्शन और कॉन्फिडेंस बिल्डिंग मीजर्स के सम्मेलन के 5 वें शिखर सम्मेलन में एर्दोआन ने यरुशलम में नई नीति बनाने के प्रयासों को खारिज कर दिया।

सम्मेलन राजनीतिक, आर्थिक, मानवीय और पर्यावरणीय मुद्दों, नई चुनौतियों और खतरों पर चर्चा कर रहा है।

एर्दोआन ने कहा कि फिलिस्तीन मुद्दे पर तुर्की का सक्रिय रुख है। उन्होंने सभी देशों से यू.एन. प्रस्तावों और यरूशलेम की ऐतिहासिक और कानूनी स्थिति का सम्मान करने का भी आह्वान किया।

1967 से इ’ज़’राइ’ल के कब्जे वाले पूर्वी यरुशलम पर कब्ज़ा करके फिलिस्तीनियों की उम्मीद के साथ यरूशलेम बारहमासी मध्यपूर्व संघर्ष के केंद्र में बना हुआ है – अंततः एक स्वतंत्र फिलिस्तीनी राज्य की राजधानी के रूप में काम कर सकता है।

एर्दोआन ने सीरिया में संघर्ष को भी संबोधित करते हुए कहा कि तुर्की सीरिया में गृह यु’द्ध को समाप्त करने और वहां स्थिरता सुनिश्चित करने की पूरी कोशिश कर रहा है। उन्होंने दोहराया कि तुर्की लगभग 4 मिलियन सीरियाई लोगों की मेजबानी करता है।