तुर्की रेड क्रिसेंट (किज़िलय) और कतर चैरिटी फाउंडेशन के बीच हस्ताक्षरित प्रोटोकॉल के हिस्से के रूप में मानवीय सहायता के लिए यमन को  $1 मिलियन नकद राशि से मदद करने की घोषणा की है.

तुर्की रेड क्रिसेंट के हेड केरेम किनिक और कतर चैरिटी फाउंडेशन के सीईओ फैसल रशीद अल फेहेदा ने रविवार को इस्तांबुल में रेड क्रिसेंट के प्रेसीडेंसी कार्यालय में एक समारोह के दौरान सहयोग प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर किए.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर के मुताबिक, प्रोटोकॉल के हिस्से के रूप में, यमन में दो परियोजनाएं लागू की जाएंगी. सबसे पहले, खाद्य सहायता प्रदान करने के लिए $ 1 मिलियन नकद राशि दी जाएगी.

दूसरा, यमन के एक अस्पताल में एक गैस्ट्रोएंटेरोलॉजिकल एंडोस्कोपिक ईलाज केंद्र स्थापित किया जाएगा.

अरब नामा को मिली जानकारी के मुताबिक, फैसल राशिद अल फेहाएदा ने कहा, “हम यमन में अपनी परियोजनाओं के लिए रेड क्रिसेंट का समर्थन करना जारी रखेंगे जो खाद्य जरूरतों को पूरा करेगा, खासतौर से अस्पताल की जरूरतों को पूरा करेगा.”

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, यमन में 22 मिलियन से अधिक लोगों को मानवीय सहायता या सुरक्षा की आवश्यकता है. 2014 के बाद ईमन में भुखमरी और बदहाली का स्तर बहुत ज्यादा बढ़ा है. जब हुतियों ने राजधानी सना समेत देश के अधिकतर हिस्सों पर कब्जा कर लिया था.

यमन में युद्ध 2015 में और भी ज्यादा बढ़ गया जब सऊदी अरब और इसके सुन्नी-अरब सहयोगियों ने यमन से हुतियों को हटाने के सैनिकों को वजह तैनात किया है. रियाद ने बार-बार ईरान के लिए प्रॉक्सी बल के रूप में कार्य करने के लिए हुतीयों पर आरोप लगाया है.