ISTANBUL (रायटर) – शुक्रवार को इस्तांबुल में चीन के उइगरों के समर्थन में हजारों प्रदर्शनकारियों ने मार्च निकाला और मुस्लिम अल्पसंख्यक के प्रति चीन की नीतियों की आ’लोचना के कारण शस्त्रागार के मिडफील्डर मेसुत ओजिल के साथ एकजुटता दिखाई।

पिछले हफ्ते, तुर्की मूल के एक जर्मन मुस्लिम सॉकर स्टार ओजिल ने सोशल मीडिया पर अल्पसंख्यक उइगरों को “उ’त्पी’ड़न का वि’रो’ध करने वाले योद्धा” कहे जाने वाले संदेश पोस्ट किए और चीन की प्रतिक्रिया और मुसलमानों की प्रतिक्रिया दोनों की आ’लोच’ना की।

इस्तांबुल की भीड़ ने “क्रू’रता बंद करो” पढ़ते हुए बैनर लगाए और “म’र्ड’रर चाइना, ईस्ट तुर्केस्तान से बाहर निकले” और “ईस्ट तुर्केस्तान अकेला नहीं है” का जप किया, उस नाम का उपयोग करके शिनजियांग के लिए उइगर वनवासियों का उपयोग करते हैं।

संयुक्त राष्ट्र और मानवाधिकार समूहों का अनुमान है कि 1 मिलियन से 2 मिलियन लोगों के बीच, ज्यादातर जातीय उइगुर मुसलमानों को शिनजियांग में कठोर परिस्थितियों में हिरा’सत में लिया गया है, क्योंकि बीजिंग आ’तंक’वाद वि’रोधी अभियान का हिस्सा है।

चीन ने बार-बार उइगरों के किसी भी दु’र्व्य’वहा’र से इनकार किया है और इसके विदेश मंत्रालय ने कहा कि ओज़िल को “नकली समाचार” द्वारा धोखा दिया गया था।

“मेसुत ओज़िल के सम्मानजनक व्यवहार ने हमें प्रेरित किया … हर किसी को इस अ’त्या’चा’री के खि’ला”फ अपनी आवाज़ उठानी चाहिए जैसे मेसुत ने किया,” आदम आदिल ने कहा, भीड़ के साथ एक रक्षक।

तुर्की ने अतीत में यूएन मानवाधिकार परिषद में फरवरी में शिनजियांग की स्थिति के बारे में चिंता व्यक्त की है, लेकिन ओज़िल के संबंध में टिप्पणी नहीं की है।