लंदन: फिलीस्तीनी समर्थक हजारों प्रदर्शनकारियों ने मंगलवार को मध्य लंदन में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास के बाहर रैली की, जिसमें मांग की गई कि इज़’राइ’ल गाजा पट्टी के खिला’फ हवा’ई हम’ले बंद करे, जिसमें बच्चों सहित दर्जनों लोग मारे गए हों।


फिलिस्तीनी समर्थक प्रमुख विपक्षी लेबर पार्टी के पूर्व नेता जेरेमी कॉर्बिन सहित प्रमुख ब्रिटिश राजनीतिक हस्तियों ने भाग लिया। इससे पहले उस दिन उन्होंने ट्वीट किया था: “अल-अक्सा मस्जिद पर जानबूझकर भड़’काऊ हम’ले और घर में चल रहे आक्र’मण (शेख जर्राह) के कारण यरूशलेम में भयाव’ह हिं’सा हुई है।


सत्ता पर काबिज होने के रूप में, इ’जरा’यली सरकार के पास मौजूदा स्थिति को सुधारने और उसे ख़’त्म करने के लिए नहीं है। अधिकारियों के अलग होने की कोशिश के बाद दोनों वि’रोधी समूहों और पुलिस के बीच झड़’प के वीडियो सामने आए।

फिलीस्तीनी समर्थक भीड़ ने इजरा’यल समर्थक वि’रोध पर “आप पर शर्म” का आ’रोप लगाया। इस बीच, सशस्त्र पुलिस को लंदन में इज़रा’इली दूतावास की सुरक्षा के लिए तैनात किया गया है।


ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने बुधवार को ट्वीट किया: “मैं इजरा’यल और फिलिस्तीनियों से आग्रह कर रहा हूं कि वे कगार से हट जाएं और दोनों पक्षों को संयम दिखाएं। बढ़ती हिं’सा और नागरिक हताहतों के मामले में यूके का गहरा संबंध है और हम तना’वों को रोकने के लिए तत्काल प्रयास करना चाहते हैं। ”