फलिसितनियों ने इ’ज़रा’यल की काफी निंदा की। पिछले साल के बच्चों के अधिकारों का उल्लंघन करने वालों में “शर्म की सूची” से इज’राइल को हटाने पर फिलिस्तीनियों ने जमकर नाराज़गी ज़ाहिर की।

फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गनाइजेशन (पीएलओ) की कार्यकारी समिति के सदस्य अहमद बलदानी ने कहा, “संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने फिलिस्तीनी बच्चों के खिलाफ इजरायल के कब्जे वाली सरकार द्वारा किए गए उल्लंघन के बारे में कुछ भी नहीं सुना है।” फिलिस्तीनी बच्चों की ह’त्या और कारावास में उलझाए जाने के समय इज़राइल को रिपोर्ट से बाहर रखा गया था।

हमास ने इस तथ्य की भी निंदा की कि इज’रायल को यू.एन में “शर्म की सूची” में नहीं जोड़ा गया। एक लिखित बयान में हमास ने कहा, “हम इस तथ्य की निंदा कर रहे हैं कि U.N ने फिलिस्तीनी बच्चों के अधिकारों के उल्लंघन पर विचार करते हुए,” 2018 मे इजरा’यल को “शर्म की सूची में नहीं जोड़ा।”

बयान में कहा गया है कि इज’रायल द्वारा फिलिस्तीनी बच्चों के अधिकारों के संबंध में सबसे अधिक उल्लंघन 2018 में यूएन संस्थानों की रिपोर्ट के अनुसार हुआ था। यह कहते हुए कि अंतर्राष्ट्रीय नींव “इज’रायल और यू.एस. के दबाव के सामने आत्मसमर्पण करके” बच्चों और फिलिस्तीन के लोगों के खिलाफ अधिक अपराध करने के लिए इजरा’यल को हरी झंडी दे दी थी।