मुस्लिम विद्वानों के अंतर्राष्ट्रीय संघ ने कहा है कि इस्लामी राष्ट्रों, विशेष रूप से फिलिस्तीनी लोगों और अल-अक्सा मस्जिद के सामने आने वाले मुद्दों को हल करने के लिए रमजान के पाक महीने में हर कोई फिलिस्तीनियों की हिफाज़त के लिए अल्लाह से दुआ करें. रमजान के बरकती महीने में हर कोई इबादत में मशगूल रहता है ऐसे में संघ ने मुस्लिम जगत से यह आग्रह किया.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर के मुताबिक, संघ ने कहा कि इस्लामी राष्ट्रों को मुसलमानों के पवित्र महीने के आखिरी कुछ दिनों में फिलीस्तीनी लोगों का समर्थन करने के लिए अपनी नमाज़ों पर ध्यान देना चाहिए, और अल्लाह से फिलिस्तीनियों को इस्रैलियों से बचाने, उनकी ज़मीन पर अवैध कब्ज़े के लिए उनकी हिम्मत को बढ़ने के लिए दुआ करें. हमें सभी फिलिस्तीनी लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए. “

अंतरराष्ट्रीय संघ ने इस्लामी और अरब सरकारों को देश के राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और मानवीय स्थितियों में सुधार करने और विश्वास के भाईचारे के ढांचे के भीतर आंतरिक विवादों को हल करने के लिए अपनी पूरी कोशिश करने के लिए कड़ी मेहनत करने का आह्वान किया.

अरब नामा को मिली जानकारी के मुताबिक, इसरायली जेल में कैद फिलिस्तीनियों को भी रिहा किया जाना चाहिए, और वास्तविक सुधारों के माध्यम से लोगों की उम्मीदों और आकांक्षाओं को हासिल किया जाना चाहिए जिसके लिए  संघ हर मुमकिन कोशिश के रहा है.

साथ ही बयान में कहा गया कि, इस्लामी और मुक्त दुनिया को विस्थापित, आप्रवासी, उत्पीड़ित, गरीब और कमजोर लोगों के साथ खड़ा होना चाहिए और उन्हें राहत का एक सहायक हाथ प्रदान करना चाहिए.