जिस तरह मेकुनू तूफ़ान ने यमनी द्वीप सोकोतरा में तबाही मचाकर 19 लोगों को लापता कर दिया कर दिया है. जिसकी वजह से यमन में जहाजों और घरों को भारी नुकसान पहुंचा है. अब इस बवंडर की चपेट में ओमान आया है. देर रात ओमान में तबाही का बवंडर बन कर सामने आया ऐसा नज़ारा जिसने हर किसी को डरा दिया.

टाइम्स ऑफ ओमान के अनुसार,  यह बवंडर ओमान के दक्षिणी तट पर आया है, जिससे धोफर और अल-वस्ता के गवर्नरों को भारी बारिश और हवाएं आयीं.

पब्लिक अथॉरिटी फॉर सिविल एविएशन (पीएसीए) ने कहा कि सलालाह हवाई अड्डे को शुक्रवार को आधी रात से कम से कम 24 घंटे तक हवाई यातायात के लिए बंद कर दिया गया है. अगर आगे भी खराब मौसम बना रहा हो लम्बे वक़्त के हवाईअड्डे को बंद करना पड़ सकता है.

अल अरेबिया के मुताबिक, बयान में कहा गया है कि, तूफ़ान  के बाद, जो अरब सागर में केंद्रित है और धोफर के साथ-साथ ओमानी एयरस्पेस के तटों से संपर्क करता है. पब्लिक अथॉरिटी फॉर सिविल एविएशनने आज रात 12 बजे सलालाह हवाई अड्डे को बंद करने का फैसला किया है.”

पीएसीए ने कहा कि यह ओमानी एयर स्पेस में अन्य अंतरराष्ट्रीय एयरलाइंस के साथ समन्वय कर रहा है. पीएसीए ने एक चेतावनी भी भेजी जिसने कहा कि मेकुन तूफ़ान के चलते बादल धोफर से 40 किमी दूर थे.

मौसम विभाग ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि अगले 24 घंटों में दुबारा से भयंकर तूफ़ान आ सकता है. वहीँ सरकार ने अस्पतालों में आपातकाल सेवा देने की घोषणा की है.