नॉर्वे के मुस्लिम संघों ने गुरुवार को घोषणा की कि वे न’स्ल’वाद और नफ़’रत से ल’ड़ने की कोशिश में नार्वेजियन अनुवाद के साथ 10,000 कुरान वितरित करेंगे।

यह नॉर्दर्न लिटरेचर एसोसिएशन और मिन्हाज-उल-कुरान मस्जिद के साथ एक सहयोग होगा, जो नार्वेजियन मुस्लिम आर्ट्स एंड कल्चर एसोसिएशन ने बताया।

एक चरम दक्षि’णपं’थी समूह द्वारा मुस्लिमों के क़ुरान-ए-पाक की एक प्रति को जलाने की कोशिश के बाद आया, जो प्रवासियों से भरे शहर क्रिस्टियानसैंड में वि’रोध प्र’दर्श’न के दौरान हुई थी।

नॉर्वे के इस्लामीकरण को रोकें (एसआईओएन) के सदस्यों को पुलिस द्वारा हताश करने से रोका गया था, हालांकि, समूह के नेता ने कुरान -ए-पाक की तौहीन की थी।

तुर्की, पाकिस्तान, ईरान ने अपनी औपचारिक निं’दा जारी करके 16 नवंबर की घ’टना पर कड़ी प्रतिक्रिया ज़ाहिर की।

इन देशों ने कहा कि, “हम पवित्र कुरान द्वारा सिखाए गए प्यार और ज्ञान को फैलाने के द्वारा न’कारा’त्मक कार्यों का जवाब देना चाहते हैं,” मुस्लिम कला और संस्कृति एसोसिएशन ने एक बयान में कहा कि संकेत दिया गया है कि कुरान इंटरनेट के माध्यम से सौंपे जाएंगे।

ओस्लो में तुर्की के राजदूत फ़ज़्लिम अरोमन ने अनादोलु एजेंसी को बताया कि उनका कार्यालय नॉर्वे के मुस्लिम समुदाय के कल्याण की चिंता करने वाले घ’टनाक्रमों का बारीकी से अनुसरण करता है।