भारत सहित दुनियाभर में CAA और NRC के ख़िलाफ़ प्रदर्शन तेज़ी से बढ़ रहा है। दुनिया के कई देशों में इसका वि’रोध किया जा रहा है। मलेशिया के प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद ने भारत को आड़े हाथों लिया। है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, शुक्रवार को कुआलालंपुर समिट में शामिल होने आए महातिर मोहम्मद ने नागरिकता संशोधन क़ानून की ज़रूरत पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब भारत में सब लोग 70 साल से साथ रहते आए हैं, तो इस क़ानून की आवश्यकता ही क्या थी.


उन्होंने कहा, “लोग इस क़ानून के कारण अपनी जान गँवा रहे हैं. 70 साल से सब साथ रहते आए हैं और उन्हें साथ रहने में कोई समस्या भी नहीं रही है.”

महातिर मोहम्मद ने कहा, “मैं ये देखकर दुखी हूँ कि जो भारत अपने को सेक्युलर देश होने का दावा करता है, वो कुछ मुसलमानों की नागरिकता छीनने के लिए क़दम उठा रहा है. अगर हम यहाँ ऐसे करें, तो मुझे पता नहीं है कि क्या होगा. हर तरफ़ अफ़रा-तफ़री और अस्थिरता होगी और हर कोई प्रभावित होगा.”