KAULA LUMPUR: बहु-जातीय देश में बढ़ती धार्मिक रूढ़ि’वादिता के बारे में बुधवार को नई चिंताओं के बीच इस्लामिक कानूनों का उल्लं’घन करने के लिए छह मलेशियाई मुसलमानों को कथित तौर पर जुमे की नमाज ना पढ़ने के लिए एक महीने की जे’ल की स’जा दी गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जुमे की नमाज़ अदा करना मलेशिया में मुस्लिम पुरुषों के लिए अनिवार्य है, लेकिन ऐसी कठोर स’जाओं के लिए उन्हें याद नहीं किया जाना दुर्लभ है।

समाचार पत्र हरियन मेट्रो ने बताया कि 17 से 35 साल की उम्र के लोग जुमे की नमाज़ अदा करने के बजाय जलप्रपात से पिकनिक मनाते हुए पकड़ा गया था।

टेरेंगानू के रूढ़िवादी पूर्वोत्तर राज्य में एक शरिया अदालत में रविवार को दोषी करार देने के बाद प्रत्येक पर 2,400 और 2,500 रिंगिट ($ 575- $ 600) के बीच जुर्मा’ना लगाया गया।

वे वाक्यों को अपील करते हुए अभी भी जमानत पर मुक्त हैं। मुस्लिम बहुल मलेशिया के शरिया कानूनों के तहत उन्हें अधिकतम दो साल की जेल हो सकती थी।

समूह के वकीलों से जैद मालेक ने कहा, लिबर्टी के अधिकार समूह के वकीलों से एक बयान में कहा, “जुमे की नमाज़ में भाग लेने में विफलता एक व्यक्तिगत मामला है।”