प्रधानमंत्री साद हरीरी ने अपने इस्तीफे की घोषणा की, बेरुत में प्रदर्शनकारी देशवासियों ने खुशियां मनाईं और लेबनान का झंडा लहराया।

सीएनएन के मुताबिक साद हरीरी ने अपने भाषण में कहा, ‘मैं आपसे यह नहीं छिपा सकता। मैं अंत तक पहुंच गया हूं। मेरे सभी राजनीतिक साथियों के लिए, आज हमारी जिम्मेदारी है कि हम लेबनान की रक्षा करें और अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाएं। आज एक अवसर है और हमें इसे बर्बाद नहीं करना चाहिए।’

उन्होंने कहा, “लेबनान के लोगों ने (अर्थव्यवस्था में) गिरावट को रोकने के लिए राजनीतिक समाधान के इस फैसले का पिछले 13 दिन से इंतजार किया है। मैंने इस दौरान लोगों की आवाज सुन कर यह कोशिश की है ताकि कोई रास्ता निकले”

उन्होंने यह भी कहा, “हमारे लिए अब समय आ गया है कि हमें एक झटका लगे, हम संकट का सामना करें। मैं बादबा (प्रेसिडेंशियल) पैलेस जा रहा हूं, सरकार का इस्तीफा देने। राजनीतिक जीवन में हमारे सभी सहयोगियों की और हमारी जिम्मेदारी है कि हम लेबनान की रक्षा करें और अर्थव्यवस्था को खड़ा करें।”

बता दें कि 17 अक्टूबर से राजनीति में व्यापक भ्रष्टाचार को लेकर लेबनान में विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला जारी है। बीते 10 दिनों से सरकार का पूरा काम काज ठप्प हो गया है, यहां तक कि बैंक और स्कूल कॉलेज के साथ कारोबार भी बंद पड़े हैं।