दुनिया भर के मुस्लिम नेताओं ने नॉर्वे के हीरो इलियास को इस्लाम की हिफाजत और क़ुरान-ए-पाक की हिफाजत के लिये समानित किया। एक इस्लाम विरोधी प्रतियोगिता चल रही थी, जिसमे कुरान ए पाक को जलाने की कोशिश की जा रही थी। तभी इस मुस्लिम शख्स ने बहादुरी दिखाई और वोरोधी जनता से लड़ते हुए कुरान पाक को बचाया जिसके बाद दुनिया भर में शख्स की प्रशंसा की जा रही है।

नार्वे (SIAN) की रैली के स्टॉप इस्लामीकरण के नेता, लार्स थोरसेन के स्थानीय पुलिस अधिकारियों की चेतावनी के बावजूद क्रिस्टियनसैंड शहर में कुरान ए पाक को जलाने की कोशिश के बाद हाथा’पाई शुरू हो गई।

सोशल मीडिया पर थर्सन को कुरान जलाने से रोकने वाले शख्स को इलियास कहा जा रहा था, लेकिन उसकी सही पहचान का पता नहीं चल सका।

नेटिज़ेंस ने इलियास की प्रशंसा करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया और साथ ही यूरोप और दुनिया भर में इस्लामोफोबिया के उदय पर अलार्म भी उठाया।

एक महत्वपूर्ण सामाजिक और सांस्कृतिक संगठन, पाकिस्तान यूनियन नॉर्वे (PUN) ने इस घटना की निं’दा की।

PUN के चेयरमैन चौधरी क़मर इक़बाल ने कहा कि एक व्यक्ति ने पवित्र कुरान का अपमान करके मुसलमानों की भावनाओं को आहत किया है। उन्होंने कहा कि नॉर्वेजियन शांतिप्रिय लोग थे और नॉर्वे ने दुनिया भर में एक अच्छी प्रतिष्ठा का आनंद लिया क्योंकि यह अन्य धर्मों के अधिकारों का सम्मान करता था