अनादोलु एजेंसी का कहना है कि पूर्वोत्तर सीरिया में तुर्की का ऑपरेशन – ऑपरेशन पीस स्प्रिंग – क्षेत्र को खाली करने और लाखों शरणार्थियों की सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए, मजबूत प्रतिक्रियाओं को जन्म दिया है।

मिडिल ईस्ट मॉनिटर के मुताबिक,इज’राय’ली अखबार टाइम्स ऑफ इ”जराय’ल ने बताया कि एक वाईपीजी कमांडर ने पिछले गुरुवार को एक इ’जराय’ली रेडियो स्टेशन से बात की, जो यहूदी राज्य से मदद मांग रहा था।

अंकारा वाईपीजी को पीकेके की एक शाखा के रूप में देखता है और दोनों को आतं’कवा’दी संगठन मानता है, जिसे अमेरिका और यूरोपीय संघ द्वारा आ’तंकवा’दी समूह के रूप में भी सूचीबद्ध किया गया है।

संदेश प्रसारित करने वाले आर्मी रेडियो ने अपना पूरा नाम नहीं दिया लेकिन उसका उल्लेख “एलेफ़” के रूप में किया। कमांडर ने कहा कि अगर तेल अवीव हस्तक्षेप नहीं करता है, तो पूरा मध्य पूर्व “प्रतिकूल रूप से प्रभावित” होगा।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा सीरिया से अमेरिकी सेना को वापस लेने के फैसले से इ’जराय’ली अधिकारियों और टिप्पणीकारों में नाराजगी है। उनका मानना ​​था कि यह निर्णय क्षेत्र में दीर्घकालिक इ’ज़राइ’ली लक्ष्यों को पूरा नहीं करता है। इजरायल के स्तंभकारों ने अधिनियम को “पीठ में इसराइल को छुरा घोंपने” के रूप में वर्णित किया है।