देश के रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स के प्रमुख जनरल होसैन सलामी ने अमेरिका, ब्रिटेन, इ’ज’राय’ल और सऊदी अरब पर ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी पर पिछले हफ्ते हुए हिंसक वि’रोध प्रदर्शन का आ’रोप लगाया।

राजधानी के एंगलाब स्क्वायर में एक सरकार-समर्थक प्रदर्शन को संबोधित करते हुए, उन्होंने आज पश्चिम को चेतावनी दी: ‘अगर आप हमारी लाल रेखा को पार करते हैं, तो हम आपको न’ष्ट कर देंगे … हम अनुत्तरित किसी भी कदम को नहीं छोड़ेंगे।’

ईरान, तेहरान के जून में फ़ारस की खाड़ी में अमेरिकी ड्रोन को गिराए जाने के मद्देनजर अमेरिका द्वारा लगाए गए अपंग प्रतिबंधों को उठाना चाहता है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा कि पिछले सप्ताह विरोध प्रदर्शन के दौरान 100 से अधिक लोग मारे गए हैं।

ईरान ने काईदिनों सड़ आम नागरिक सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर यह है। जिसके चलते कई नागरिक गिरफ्तार भी हुए। यह प्रदर्शन बढ़ती तेल की कीमतों को लेकर हुआ।

कम से कम 50 फीसदी गैसोलीन की कीमतों में बढ़ोतरी की घोषणा के बाद हजारों युवा और मजदूर वर्ग के ईरानियों ने 15 नवंबर को सड़कों पर उतरने की घोषणा की।

कम से कम 50 फीसदी गैसोलीन मूल्य वृद्धि की घोषणा के बाद हजारों युवा और श्रमिक वर्ग के ईरानियों ने 15 नवंबर को सड़कों पर प्रदर्शन किया (चित्र, 17 नवंबर को), जीवन यापन के लिए किए गए चक्रव्यूह से होने वाली तकलीफों पर आगे बढ़ने से नाराजगी जताई।