सऊदी और संयुक्त अरब अमीरात को दुनिया एक बेहद अच्छा दोस्त मानती है क्योंकि कई बार इन दोनो देशों ने अपनी सच्ची दोस्ती की मिसाल कायम की है। साथ ही दोनों देशों के बीच कई बिज़नेस सम्बन्ध भी है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, यही नहीं खाड़ी के इन दोनों देशों के नेताओं के नाम भी एक से हैं, जैसे मोहम्मद बिन सलमान और मोहम्मद बिन जाएद। हालांकि दोनों देशों के इस मजबूत गठजोड़ में दरार पड़ती दिख रही है।

वहीं आपको बता दें कि, यमन के अदेन शहर पर यूएई के समर्थन वाले सशस्त्र समूहों के नियंत्रण को लेकर दोनों देशों के बीच मतभेद उभर आए हैं। यमन में 2015 से ही गृह युद्ध के हालात हैं। पूर्व राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सलेह का समर्थन पाने वाले हुथी विद्रोहियों ने कैपिटल सिटी सना पर कब्जा जमा लिया था।

हुतियों को ईरान का समर्थन प्राप्त था। यमन के घटनाक्रम में ईरान के शामिल होने से सऊदी अरब और यूएई को आशंका थी कि इससे उनके प्रतिद्वंद्वी का कद बढ़ जाएगा।