रूसी विदेशमंत्री ने फार्स की खाड़ी में ईरान के खिलाफ किसी भी कार्यवाही की ओर से चेतावनी देते हुए कहा कि इसके भयानक परिणाम होंगे।

रूसी विदेशमंत्री सरगई लावरोव ने कहा कि फार्स की खाड़ी में ईरान के खिलाफ उठाए जाने वाले क़दमों को रोका जाना चाहिए क्योंकि इस तरह के सभी क़दमों का उद्देश्य, तनाव पैदा करने और यु’द्ध के आरंभ के लिए हैं।

लावरोव ने ब्राज़ील में ब्रिक्स के विदेशमंत्रियों की बैठक में अपने भाषण के दौरान मांग की कि फार्स की खाड़ी में शांति व स्थिरता के लिए ” सामूहिक सुरक्षा” नामक रूसी प्रस्ताव पर काम किया जाए।

रूसी विदेशमंत्री ने कहा कि हालात खतरे की रेखा तक पहुंच चुके है् जिसकी वजह से युद्ध का खतरा बढ़ गया है इसी लिए हमें युद्ध रोकने के लिए पूरी कोशिश करना चाहिए।

रूसी विदेशमंत्री ने ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी से भी मांग की कि वह ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते का पालन करें और ईरान के साथ आर्थिक सहयोग को बढ़ाएं।

याद रहे ब्रिटेन एसी दशा में फार्स की खाड़ी में जहाज़ों की सुरक्षा के लिए एक गठबंधन बनाने का प्रयास कर रहा है कि जब स्वंय उसके पास भी पर्याप्त युद्धपोत नहीं हैं।

ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने बुधवार को बल दिया है कि फार्स की खाड़ी और हुरमुज़ स्ट्रेट की सुरक्षा, ईरान और पड़ोसी देशों की है और ईरान किसी भी देश को इस बात की अनुमति नहीं देगा कि वह फार्स की खाड़ी और हुरमुज़ स्ट्रेट में अशांति पैदा करे।