जेद्दाह: रियाद में जर्मन दूतावास बीते दिनों हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना को लेकर पछतावा हो रहा है. जिसमें जर्मन कंपनी ईचबाम ने रूस में फीफा विश्व चैम्पियनशिप 2018 से जुड़े एक पीआर अभियान के लिए अपनी बियर की बोतल में  सऊदी झंडे का उपयोग किया. अब कंपनी अपनी इस बदसलुखी के लिए शर्मिंदा है.

अरब न्यूज़ के मुताबिक, रियाद के जर्मन दूतावास के बयान के मुताबिक, सऊदी झंडे का इस्तेमाल अनुचित और अस्वीकार्य तरीके से करने की कंपनी की कोई मंशा नहीं थी ना ही वह सऊदी के झंडे का इस्तेमाल गलत तरीके से करना चाहते थे. वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया को मिली जानकारी के मुताबिक, “बियर कंपनी को सऊदी ध्वज का इस्तेमाल करने के प्रभावों के बारे में पता चला था, इसके बाद उसने तत्काल कार्रवाई की, बाजार से उत्पाद वापस ले लिए गये.  साथ ही कंपनी ने जर्मनी और दुनिया भर में मुस्लिमों से माफ़ी मांगी है.”

क्या था पूरा मामला 

जर्मन की बियर बनाने वाली कंपनी ने सऊदी अरब के झंडे का इस्तेमाल अपनी बियर की बोतल के ढक्कन में किया. जिसपर “कलिमत अल तौहीद” लिखा है. जिसने भी इन बियर की बोतल को देखा उसने इस कंपनी का विरोध करना शुरू कर दिया है. इस अपरिवर्तनीय कार्य के बारे में सोशल मीडिया पर काफी विरोध किया जा रहा है.

सऊदी गेजेट के मुताबिक,बर्लिन में सऊदी दूतावास ने जर्मन कंपनी को भी जमकर निंदा की है. वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया के मुताबिक, सोशल मीडिया के माध्यम से इस मुद्दे से सतर्क होने के बाद यह एक बयान जारी किया है जिसके बाद से यह खरब दुनियाभर में वायरल हो गयी. मुसलमानों ने इसे इस्लाम की तौहीन करार दिया है.

कंपनी द्वारा अपमानजनक कृत्य की तस्वीर सऊदी झंडे के साथ दिखाए गए बोतल के ढक्कन के साथ सोशल मीडिया में वायरल हो गयी. मैनहेम शहर में स्थित जर्मन फर्म “ईचबाम” ने अपने शराब उत्पादों में से एक के कैप्स पर सऊदी अरब के राज्य का झंडा प्रकाशित किया और ट्विटर में निंदा की जा रही रही है. साथ ही सोशल मीडिया पर दुनिया भर के मुसलमान इस कंपनी के खिलाफ कार्यवाही की मांग कर रहे है.

SOURCE: SAUDI GAZETTE

अधिकांश ट्वीट्स ने मुस्लिमों की भावनाओं को प्रभावित करने के लिए कंपनी के खिलाफ रैली की और इस उत्पाद को वापस लेने की मांग की. लगभग हर ट्वीट ने कंपनी को माहि मांगने का आदेश दिया.

# दोस्तखान ने अपने ट्वीट में कहा: “जर्मनी में एक अल्कोहल कंपनी ईचबाम बियर ने मुसलमानों को चोट पहुंचाने के लिए बीयर की बोतल के ढक्कन पर “लाइलाहाइल्लल्लाह मोहम्मद रसूलुल्लाह” लिखा है. जर्मनी को इस शर्मनाक काम के लिए माफी माँगनी चाहए और इस पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए और मुसलमानों से सभी प्रकार की प्रतिक्रियाओं के लिए इस कंपनी के खिलाफ आवाज़ उठानी चाहए.

जर्मन में एक जर्मन महिला ने है कहा कि, “ईचमैन में एक निजी शराब ने विश्व कप के उत्सव में 32 देशों के झंडे को अपनी बीयर कैप पर मुद्रित किया. मुद्रित झंडे में से एक सऊदी अरब है. इससे इस्लाम का अपमान हुआ है. “