फ्रांस के पेरिस में रविवार को इस्लामोफोबिया के तहत देश भर के मुसलमानों के खिलाफ भेदभाव और आ’क्रा’मक’ता को रोकने के लिए एक मार्च का आयोजन किया गया।

ये मार्च ऐसे समय में निकाला गया जब दो दिन पहले ही एक मस्जिद में शू’टिंग के दौरान दो लोग गंभीर रूप से घा’य’ल हो गए थे। इस ह’म’ले ने फ्रांस को और अशांत कर दिया, जो पहले से ही इस्लाम के पालन के बारे में बहस में उलझा हुआ था।

इससे पहले, विवाद खड़ा हो गया था जब एक मुस्लिम महिला ने अपने बेटे और अन्य बच्चों के साथ पूर्वी फ्रांस के बोगरोगने-फ्रेंच-कॉमटे में क्षेत्रीय संसद में स्कूल यात्रा के दौरान एक हेडस्कार्फ़ पहना था।

मरीन ले पेन की राष्ट्रीय रैली (आरएन) पार्टी के एक सदस्य जूलियन ओडौल ने इस सबंध में विवादित पोस्ट की थी। ट्विटर पर पोस्ट करने के बाद व्यापक रूप से नाराजगी झेलनी पड़ी।