कोरोना वायरस से अब तक दुनिया भर में 17,400 लोग प्रभावित हो चुके हैं. इसमें से 17,210 लोग तो चीन से ही हैं. कोरोना वायरस अब तक 400 लोगों की मौ’त का कारण बन चुका है. दुनिया बहर के तमाम देशों में इस भयावह वायरस का इलाज खोजा जा रहा है. जहाँ, इस वायरस से डर कर लोग अपने पालतू पशुओं को भी मार रहे हैं, वहीँ, थाईलैंड से इस वायरस के बारे में एक सकारात्मक खबर आ रही है.

बताया जा रहा है कि थाईलैंड के डॉक्टरों ने कोरोना वायरस की प्रभावी दवा खोज ली है. थाईलैंड की सरकार का दावा है कि इस दवा से कोरोना का एक मरीज 48 घंटे में ही नब्बे फीसदी तक ठीक हो गया है.

थाईलैंड के डॉक्टर क्रिएन्साक एतिपोर्नविच ने बताया कि उन्होंने इस दवा को कोरोना से ग्रसित एक ऐसी महिला मरीज पर प्रयोग किया जो बिस्तर से हिलने में भी सक्षम नहीं थी. दवा देने के मात्र 12 घंटों में मरीज उठ बैठी. 48 घनते में महिला 90 प्रतिशत तक ठीक हो चुकी है. डॉक्टर का कहना है कि कुछ ही दिन में महिला पूरी तरह सेहतमंद हो जाएगी और उसे डिस्चार्ज कर दिया जायेगा.

डॉक्टर क्रिएन्साक ने बताया कि कोरोना वायरस के इलाज के लिए एंटी-फ्लू ड्रग ओसेल्टामिविर को एड्स के इलाज में प्रयुक्त की जाने वाली दवा लोपिनाविर और रिटोनाविर को मिला कर ये नयी दवा बनायी गयी है.

थाईलैंड की सरकार ने इस दवा को अपनी केन्द्रीय प्रयोगशाला में मजबूत व सटीक बनाने के लिए भेज दिया है. प्रयोगशाला में यदि ये दवा परीक्षणों में सफल होती है तो इसे कोरोना वायरस की पहली सफल और सटीक दवा माना जायेगा.