चीन अदालत द्वारा जारी नोटिस के मुताबिक, कोरोनो वायरस से संबंधित लक्षणों को छिपाना या गलत तरीके से प्रस्तुत करना एक आप’राधिक अप’राध है जो मौ’त की स’जा का प्रावधान कर सकता है।

शनिवार को जारी किए गए नोटिस में कहा गया है कि किसी की यात्रा के इतिहास को सुधारना भी एक अप’राध बन सकता है।


आधिकारिक बीजिंग डेली अखबार ने कहा कि वायरस को फैलाने के लिए जिम्मेदार किसी भी निवासी को खत’रना’क तरीके से सार्वजनिक सुरक्षा को खतरे में डालने के अ’परा’ध का आ’रो’प लगाया जा सकता है।

अदालत का कहना के आदेश में “चरम मामलों में,” बीजिंग डेली ने कहा कि उल्लंघन करने वालों को “10 साल के कारावास, आजीवन कारावास, या मौ’त की स’जा सुनाई जा सकती है।”

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने शनिवार को सड़क, रेल, या उड्डयन यात्रा से किसी के साथ खांसी, बुखार या किसी अन्य बीमारी के खि’लाफ निषेधाज्ञा लागू की।

चीन में शुरू हुए कोरोनावायरस के प्रकोप ने वैश्विक स्तर पर लगभग 66,000 लोगों को संक्रमित किया है, और 1,500 से अधिक लोगों की मौ’त हुई है।

कोरोना वायरस की मौ’त चीन में 1,523 तक पहुंच जाती है, नए मामले गिरते हैं कोरोनावायरस की मौ’त चीन में 1,523 तक पहुंचती है

सऊदी परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 


न्यूज़ अरेबिया एकमात्र न्यूज़ पोर्टल है जो अरब देशों में रह रहे भारतीयों से सम्बंधित हर एक खबर आप तक पहुंचाता है इसे अधिक बेहतर बनाने के लिए डोनेट करें
डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here