Qatar's Sheikh Tamim bin Hamad al Thani (R) attends the opening meeting of the Arab Summit in Sharm el-Sheikh, in the South Sinai governorate, south of Cairo, March 28, 2015. Arab League heads of state will hold a two-day summit to discuss a range of conflicts in the region, including Yemen and Libya, as well as the threat posed by Islamic State militants. REUTERS/Stringer - RTR4V98K

कतर समाचार एजेंसी ने बताया कि दोहा ने सऊदी अरब में उमराह और हज अदा करने के लिए अपने नागरिकों और निवासियों इजाजत नहीं दे रहा है, ऐसे सभी दावों से क़तर ने इनकार किया है.

मंत्रालय ने एक बयान जारी किया जिसमें सऊदी मंत्रालय के हज और उमराह करने वाले कतरी नागरिकों और निवासियों के अधिकारों के बारे में यह उन की सऊदी क़तर के नागरिकों के हज और उमराह करने पर रोक लगा रहा है.  लेकिन सऊदी की तरफ से एक बयान जारी किया गया जिसमें कहा गया की सऊदी क़तर के नागरिकों का तहे दिल दिल से स्वागत करता है.

कतरी मंत्रालय के वक्तव्य ने जोर देकर कहा कि सऊदी अरब कतर में रहने वाले लोगों पर बाधाओं और मनमानी  चलाना चाहता है.

सऊदी का क़तर को जवाब

सऊदी अरब ने उन सभी दावों से इंकार कर दिया है जिनमें कहा जा रहा था कि सऊदी अरब में कतरी नागरिकों को तीर्थयात्रा करने से रोका जाएगा. सऊदी ने क़तर को आश्वासन दिया कि उन्हें सऊदी में किसी भी तरफ की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ेगा.

अरब न्यूज़ के मुताबिक, पाकिस्तान में सऊदी अरब के रॉयल दूतावास ने शुक्रवार को एक बयान जारी किया जिसमें कहा गया कि, “कुछ दिनों पहले सऊदी ने कतर के साथ राजनयिक संबंधों को अलग करने का फैसला किया था. लेकिन इसके बावजूद भी सऊदी अरब ने कतरी भाइयों के प्रति अपने विचार की पुष्टि की और उनके उमराह और हज के लिए स्वागत किया है.

उन्होंने आगे कहा कि, “इसके अलावा, गुरुवार, 7 जून, 2018 को इस्लामाबाद में कतरी दूतावास द्वारा जारी बयान में उमराह करने आये कतरी नागरिकों का रोकने के लिए सऊदी ज़िम्मेदार है.  वहीँ सऊदी का कहना है कि, सऊदी ने स्वागत किया था साथ सऊदी ने यह भी पुष्टि की थी क़तर से आये  नागरिकों को हर बेहतर सुविधा दी जाएगी जैसे की अन्य देशों से आये जायेरीनों को दी जाती है.