तुर्की सांस्कृतिक केंद्र, यूनुस एमरे इंसाइटिट्यूट (वाईईई) ने पाकिस्तान के पूर्वोत्तर शहर लाहौर में अनाथों के लिए एक नया तुर्की साक्षरता कार्यक्रम शुरू किया है. जिसमें अनाथ बच्चों को तालीम दी जाएगी.

तुर्की मीडिया के मुताबिक, प्रांतीय सूचना मंत्री फय्याज उल हसन चोहन, तुर्की के कंसुल जनरल अमीर ओज़बे, लाहौर में यूनुस एमेर इंस्टीट्यूट के निदेशक उलास एर्टास और अन्य अधिकारी भी लॉन्चिंग समारोह में उपस्थित रहे.

चोहन ने समारोह में कहा, “यह भाषा कार्यक्रम छात्रों को तुर्की की समृद्ध संस्कृति और इतिहास का अध्ययन करने में मदद करेगा.” चहान ने कहा कि पाकिस्तान और तुर्की ऐतिहासिक, सांस्कृतिक, धार्मिक और आर्थिक संबंधों का आनंद लेते हैं और हम इन संबंधों को और मजबूत करना चाहते हैं.

मंत्री ने तुर्की अधिकारियों को आश्वासन दिया कि उनकी सरकार पाकिस्तान में चल रहे तुर्की संगठनों को पूर्ण समर्थन और सहयोग प्रदान करेगी.

एर्टास ने अपने हिस्से के लिए कहा: “तुर्की ने हमारे भाई देश के छात्रों का समर्थन करने के लिए पाकिस्तान के शिक्षा क्षेत्र में कई कार्यक्रम शुरू किए हैं.” हम तुर्की के प्रयासों का तहे दिल से शुक्रिया करते है.”