तुर्की राष्ट्रपति रजब तय्यब एर्दोगान ने यूरोप की सबसे बड़ी मस्जिद का उद्घाटन किया है।  आपको बता दें की यह मस्जिद तुर्की इस्लामिक ग्रुप के सहयोग से जर्मनी में बनाई गयी है। एर्दोगान ने यह उद्घायन अपने जर्मन दौरे के दौरान किया। इस मस्जिद को फूल की कली की तरह बनाया है और यह दिखने में एक दम फूल की कली जैसी लगती है।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, उन्होंने कहा कि कोलोन में मस्जिद शांति के प्रतीक के रूप में बनाई गयी है और विरोध प्रदर्शन के बावजूद इसके निर्माण के साथ आगे बढ़ने के लिए जर्मन सरकार का शुक्रिया अदा किया।

एर्दोगान की कोलोन यात्रा के लिए एक प्रमुख पुलिस अभियान स्थापित किया गया था, जिसमें एक बड़ा तुर्की समुदाय है। वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया को मिली जानकारी के मुताबिक, जर्मनी की तीन दिवसीय यात्रा काफी विवादास्पद रही है, राष्ट्रपति ने अपने मेजबानों की आलोचना करते हुए टिप्पणी की है।

जर्मनी 3 मिलियन-मजबूत तुर्की डायस्पोरा का घर है। एर्दोगान के दोनों समर्थकों और विरोधियों ने शनिवार को कोलोन में सभाएं आयोजित कीं। लेकिन मस्जिद के बाहर 25,000 लोगों को इकट्ठा करने की योजना को शहर के अधिकारियों ने सुरक्षा भय से रद्द कर दिया था।

कोलोन का केंद्रीय मस्जिद एक इस्लामी धार्मिक समूह द्वारा तुर्की राज्य के करीबी संबंधों के साथ बनाई गयी है।