ट्यूनीशियाई राष्ट्रपति कैस सैयद ने फिलिस्तीनी लोगों पर हो रहे लगातार अ’त्या’चार को समाप्त करने के लिए दुनिया से आह्वान किया।

एक आ’तंक’वादी ह’म’ले मे राष्ट्रपति की सुरक्षा के सदस्यों की शहादत की 4 वीं वर्षगांठ पर ट्यूनीशियाई राष्ट्रपति ने कहा कि “मुझे यह अजीब लगता है कि दुनिया आज, इस दशकों-लंबी आ’क्रामक’ता को स्वीकार कर रही है।

उन्होने आगे कहा, सभी समाजों को फिलिस्तीनी लोगों पर हो रहे अ’त्या’चारों को इको समाप्त करने के लिए राज्यों से पहले कार्रवाई करनी चाहिए, जो एक दोषपूर्ण वैधता के लिए बसे थे। हालाँकि, इस वैधता को रौंद दिया गया है।” बता दें कि सईद नवंबर की शुरुआत में ट्यूनीशियाई राष्ट्रपति चुनाव भारी बहुमत से जीते थे।

दूसरी और अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ ने सोमवार को अरब राज्यों से इ’जरा’यल के अपने ब’हिष्का’र को समाप्त करने और यहूदी राज्य के साथ जुड़ने का आह्वान किया।

पोम्पेओ ने ट्वीट किया, “अरब देशों के लिए ब’हिष्का’र को छोड़ने और # इज़राइल को जोड़ने का समय आ गया है।” “#MiddleEast विभाजन = अस्थिरता।”

पोम्पेओ ने न्यूयॉर्क टाइम्स के एक लेख में पिछले सप्ताह 15 देशों के अरब नागरिक समाज के प्रतिनिधियों के लंदन में एक सभा के बारे में बताया, जिन्होंने इसी तरह से अरब दुनिया में इ’जराय’ल के अलगाव को समाप्त करने का आह्वान किया था।

पोम्पेओ ने लिखा, “हमें संवाद की आवश्यकता है।” “अरब विचारक जो अपने जीवन को खतरे में डालते हैं, शांति और सह-अस्तित्व की क्षेत्रीय दृष्टि की बहादुरी की वकालत करते हैं, उन्हें प्रतिशोध का सामना नहीं करना चाहिए,”