अमेरिका की गुप्तचर सेवा सीआईए ने भी कहा है कि जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या का आदेश मोहम्मद सलमान ने दिया था। कई सप्ताहों के बाद अंततः अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक विज्ञप्ति जारी करके सऊदी अरब के प्रति अपने पूर्ण समर्थन की घोषणा की है।

सऊदी अरब की तानाशाही और ग़ैर लोकतांत्रिक सरकार के आलोचक सऊदी पत्रकार जमाल ख़ाशुक़जी की हत्या के बारे में सऊदी युवराज की भूमिका के संबंध में जो रिपोर्टें सामने आयीं उन सबके संबंध में ट्रंप ने अब तक मौन धारण कर रखा था।

ट्रंप की ओर से जो विज्ञप्ति जारी की गयी उसमें आया है कि अमेरिका के सूचना तंत्र अब भी जानकारियों की समीक्षा कर रहे हैं परंतु इस बात की प्रबल संभावना मौजूद है कि सऊदी युवराज इस घटना से अवगत थे। साथ ही इस विज्ञप्ति में कहा गया है कि हो सकता है कि अवगत रहे हों और हो सकता है कि अवगत न भी रहे हों।

इतना सब हो जाने के बावजूद ट्रंप ने न तो सऊदी अरब की और न ही सऊदी युवराज की आलोचना की। उसका कारण ट्रंप ने पिछले साल सऊदी अरब की यात्रा के दौरान होने वाले अरबों डॉलर के समझौतों को बताया।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की ओर से यह विज्ञप्ति ऐसी स्थिति में जारी की गयी जब अमेरिका के भीतर और बाहर आम जनमत सऊदी अरब की तानाशाही सरकार के विरोधी पत्रकार की हत्या को लेकर क्रोधित है।