रियाद, सऊदी अरब: सऊदी मीडिया ने गुरुवार को यह जानकरी दी कि, सऊदी अदालत ने एक ऐसी महिला के पक्ष में शाही आदेश जारी किया है जिसके पिता ने उसे पासपोर्ट रखने की इजाजत देने से इनकार कर दिया है. क्योंकि सऊदी महिलाएं बिना पुरुष की इजाज़त के कोई भी फैसला नहीं ले सकती है.

सऊदी सरकार के दैनिक ओकाज़ और अन्य सऊदी मीडिया आउटलेट के मुताबिक, सऊदी के पश्चिमी शहर जेद्दाह की 24 वर्षीय महिला, जिसका नाम नहीं बताया गया गया, ने अदालत से अपने पिता की भूमिका को अभिभावक के रूप में हटाने के लिए कहा था जब उसने विदेशों में अध्ययन करने के लिए पासपोर्ट प्राप्त करने के लिए आवश्यक कदम उठाने से इंकार कर दिया था.

पारंपरिक सऊदी प्रणाली महिलाओं को यात्रा और विवाह सहित कई निर्णयों के लिए अपने करीबी पुरुष रिश्तेदार की अनुमति प्राप्त करने के लिए बाध्य करती है. बिना पुरुष की इजाज़त के महिलाऐं कही आ-जा भी सकती है लेकिन सऊदी सरकार ने हाल ही घोषणा की थी वह सिस्टम को जल्द खत्म करेंगे.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, सऊदी अदालत ने अभियोगी के पिता को पासपोर्ट प्रदान करने का आदेश दिया, जो असामान्य निर्णयों के दौरान नहीं कहा गया था. ओकाज़ दैनिक के मुताबिक, युवा महिला सवाल में अपनी मां के साथ रहती है और अपने पिता को छह साल से नहीं देखा है.

अल्ट्रा रूढ़िवादी साम्राज्य ने हाल के महीनों में सामाजिक सुधारों की एक श्रृंखला शुरू की है, जिसने महिलाओं पर प्रतिबंधों को कम कर दिया है, जिसमें उन्हें कार चलाने, फुटबॉल मैचों में भाग लेने और पहले से ही पुरुषों के लिए आरक्षित रोजगार के क्षेत्र में प्रवेश करने की अनुमति शामिल है, महिलाऐं अब कोर्ट कचहरी के कामों भी भाग ले सकती है.