संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के प्रतिनिधि कार्यालय ने महासचिव व सुरक्षा परिषद के प्रमुख को पत्र लिख कर कहा है कि सऊदी अरब, ईरान में अर्थव्यवस्था व सुरक्षा के लिए विध्वंसक साज़िश रच रहा है।

ईरान के प्रतिनिधि कार्यालय ने इस पत्र में अशांति व झड़पों को ईरान की सीमाओं के भीतर ले जाने के सऊदी अरब के अधिकारियों के बयान और उनके द्वारा ईरान के भीतर इस प्रकार की कार्यवाहियों के लिए आतंकी गुटों की मदद की ओर इशारा करते हुए कहा है कि यह सऊदी अरब के विध्वंसक व्यवहार का खुला उदाहरण है।

इस पत्र में ईरान की अर्थव्यवस्था को नुक़सान पहुंचाने और ईरानी अधिकारियों की हत्या के लिए आतंकियों को पैसे देने की सऊदी अरब की साज़िशों के कुछ प्रमाण भी पेश किए गए हैं। पत्र में यमन युद्ध की तरफ़ इशारा करते हुए कहा गया है कि विश्व समुदाय को चाहिए कि यमन युद्ध को समाप्त करने के लिए सऊदी अरब पर दबाव डाले और उसे यमन में अपराधों का ज़िम्मेदार माने।

संयुक्त राष्ट्र संघ में ईरान के प्रतिनिधि कार्यालय ने इसी तरह महासचिव व सुरक्षा परिषद के प्रमुख को लिखे गए पत्र में अमरीका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो के भड़काऊ बयान की निंदा किए जाने की मांग की है। पत्र में ईरानी राष्ट्र को भूख से मारने की पोम्पियों की धमकी को ईरानी जनता के ख़िलाफ़ आर्थिक युद्ध शुरू करने और उस पर दबाव डालने की अमरीका की नीति का एक भाग बताया गया है।

पत्र में कहा कहा गया है कि अमरीका, ईरानी राष्ट्र को सज़ा देने के अलावा, सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव का पालन करने के कारण अन्य देशों को भी सज़ा देने के लिए तैयार है।