SOURCE: SAUDI GAZETTE

जेद्दाह – एक 16 वर्षीय इथियोपियाई लड़के के माता-पिता, जो सही ईलाज ना मिलने की वजह से 2006 से कोमा में लकवाग्रस्त हो गए हैं. अब उनकी तरफ मदद का हाथ क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान ने बढाया है. क्राउन प्रिंस ने  मुआवजे के तौर पर 3 मिलियन सऊदी रियाल से इस प्रवासी परिवार की मदद की है.

सऊदी गेजेट के मुताबिक, बच्चे का ईलाज जेद्दाह के अस्पताल में करवाया जा रहा है. साथ ही सऊदी ने बच्चे को इथियोपिया भेजने के लिए एक चिकित्सा विमान भी प्रदान किया गया है.

उमराह के बाद मक्का से लौटने वाले पीड़ित की मां हलीमा ने सऊदी गेजेट को बताया कि, उन्होंने अब इथियोपिया वापस जाने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि, “मैं थक गयी हूँ और मैं घर वापस जाना चाहती हूं. मैं वास्तव में नहीं जानती कि मेरे लिए वहां क्या इंतज़ार कर रहा है, लेकिन मुझे आशा है कि वहां चीजें अच्छी होंगी. उन्होंने कहा कि, मेरे बच्चे को अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा, फिर उसे देखभाल के लिए घर ले जाया जाएगा.

SOURCE: SAUDI GAZETTE

हलीमा इथियोपिया में घर खरीदने की योजना बना रही है. मक्का में काम करने वाला उसका पति उसके और उसके बच्चे के साथ होगा और इथियोपिया में उनके साथ रहने तक उनके साथ रहेगा. हलीमा, एक इथियोपियाई राष्ट्रीयता की है, जो अपने पति के साथ मक्का में रहती है, लेकिन कुछ बाद वह जेद्दाह शिफ्ट हो गये. उन्होंने सऊदी गेजेट को को बताया कि उनके बेटे मोहम्मद अब्दुलज़ीज़ याह्या ने 2006 में टोनिलिलेक्ट्रोमी कराई थी जिसके बाद से वह कोमा में चले गये है.

मुहम्मद चार साल की उम्र के थे जब उन्होंने अपने टोंसिल को हटाने के लिए सर्जरी कराई थी. स्वास्थ्य मंत्रालय की एक समिति ने मामले की जांच की और अप्रैल 2015 में मरीज़ के परिवार के लिए 2.4 मिलियन सऊदी रियाल के निजी अधिकार मुआवजे का आदेश देने और मंत्रालय के नियमों का उल्लंघन करने के लिए 100,000 सऊदी रियाल का सार्वजनिक अधिकार देने का निर्णय जारी किया.

सऊदी में मां और उसके बच्चे का हाल ही में इथियोपियाई प्रधान मंत्री अबी अहमद ने दौरा किया जिन्होंने क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान के साथ अपनी बैठक के दौरान इस मुद्दे को उठाया. बच्चे के माता-पिता ने क्राउन प्रिंस और इथियोपियाई प्रधान मंत्री के हस्तक्षेप की सराहना की और उन सभी को धन्यवाद दिया जिन्होंने उनको समर्थन दिया है.