कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में मौ’त का आ’तंक फैला रखा है. इस महामा’री के चलते दुनिया भर की रफ़्तार जैसे रुक गयी है. हर बात पर कोरोना वायरस ने अपना असर छोड़ा है. कोरोना संक्रमण के चलते ही इस वर्ष सऊदी अरब के बाहर के निवासियों को हज की अनुमति ना दिए जाने पर लोगों में मायूसी है. हालांकि वर्ष 2020 की हज यात्रा के दिए रुपये अब हज कमेटी वापिस करने की प्रक्रिया आरंभ कर दी है.

स्लिम फंड ट्रस्ट के हज काउंटर के संयोजक फहीम सिददीकी ने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के लिये खादिम ए हरमैन शरीफैन की ओर से कोरोना संक्रमण के चलते स्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टि से सऊदी सीमाओं से बाहर रहने वाले लोगों के लिए हज की सुविधा नहीं दी जा रही है. उन्होंने बताया कि वर्ष 2020 में हज यात्रा के लिए सऊदी सीमा में रहने वाले लोगों को ही हज के अरकान अदा करने की सहूलियत दी जा रही है.

चाहे वह सऊदी नागरिक हो या वहां रहने वाले विदेशी नागरिक, जिसके चलते एक समय में दस हजार लोगों को ही अरकान अदा करने की अनुमति होगी. फहीम सिददीकी ने बताया कि हज कमेटी ने हजयात्रा पर जाने वाले आवेदनकर्ताओं की रकम 23 जुलाई से वापिस करने की प्रक्रिया आरंभ की है. जिसके चलते उनके बैंक खातों में उनके द्वारा जमा की जाने वाली रकम वापिस आ जाएगी.