14 मई को सुप्रीम कोर्ट ने सऊदी अरब में एलान किया था कि, रमजान के मुबारक महीने का चाँद सभी मुस्लिमों को मंगलवार की शाम (शाबान 29 यानी अंग्रेजी की 15 मई) दिखाई देगा. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश दिए है कि जो भी लोग चाँद का दीदार करले वह अपने नजदीकी कोर्ट में इसकी सूचना दे दें. साथ ही यह भी कहा चाँद या तो खुली आँखों से देखा जाएगा या फिर बिनोकुलर की मदद से.

नहीं दिखाई दिया चाँद 

अरब न्यूज़ के मुताबिक, बयान रविवार को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा जारी किया गया था. लेकिन सऊदी अरब में मंगलवार को चाँद नहीं दिखने की वजह से पवित्र महीने रमजान की शुरुआत अब गुरुवार से होगी.

वर्ल्ड न्यूज अरेबिया को मिली खबरों  के अनुसार सऊदी अरब के चंद्रमा पर्यवेक्षकों ने कहा कि “मंगलवार को रमजान के चाँद की कोई दृष्टि प्राप्त नहीं हुई, जिसका अर्थ है कि दुनिया भर के करोड़ो मुस्लिम गुरुवार को पवित्र माह की शुरुआत करेंगे.”

सौजन्य से-अरब न्यूज

सऊदी अरब की स्टेट टीवी के अनुसार खराब मौसम की वजह से चाँद के आकार को देखने में मुश्किलें पैदा हुई, जिसके बाद चांद-दृष्टि समितियों के अवलोकनों के आधार पर इंडोनेशिया और अन्य मुस्लिम राष्ट्रों ने घोषित किया की “पवित्र महिना रमजान बुधवार को शुरू नहीं होगा.”

दुनिया भर के मुस्लिम इस महीने की शुरुआत करने के लिए तैयार है, जिसके दौरान रोजा रखने वाले विश्वासियों को खाने, पीने और धूम्रपान करने से दूर रहना पड़ता है. रमजान के महीने के दौरान उपवास का उद्देश्य मुसलमानों को अल्लाह के करीब लाने का होता है.सभी अरब देशों में रमज़ान की तैयारियां ज़ोरों पर है लोग इस पाक महीने का बेसबरी से इंतज़ार कर रहा है. साथ ही लोगों में काफी ख़ुशी का महौल भी है. सभी मुस्लिम लोग 15 घंटे तक रोज़ा रखते है फिर रोज़ा इफ्तार करते है.