सौजन्य से-अरब न्यूज

सऊदी टूरिज्म फॉर नेशनल हेरिटेज के अध्यक्ष प्रिंस सुल्तान बिन सलमान ने घोषणा की है की “सऊदी अरब में किंग सलमान की सरकार और किंग सलमान के खर्च पर पुनर्निर्मित ऐतिहासिक हानाफी मस्जिद, अगले साल खुल जायेगी.” उन्होंने कहा की ” किंग सलमान ने मस्जिदों, विशेष रूप से अल-दियायाह और जेद्दाह में ऐतिहासिक विरासतों में बहुत रुचि दिखाई है, क्योंकि वे दिन में पांच बार लोगों के लिए चौराहे का प्रतिनिधित्व करते हैं और लोगों को करीब लाते हैं.”

सऊदी में मस्जिदों का पुनर्निर्माण

अरब न्यूज के अनुसार राजकुमार ने घोषणा की “नेशनल प्रोग्राम फॉर द केयर ऑफ़ हिस्टोरिक मस्जिद” का टाइटल अब ” नेशनल प्रोग्राम फॉर द रीस्टोरेशन ऑफ़ हिस्टोरिक मस्जिद” हो चूका है. और यह भी कहा की “बहाली शब्द का अर्थ देखभाल से है, क्योंकि लक्ष्य मस्जिदों का पुनर्निर्माण करना है.”

उन्होंने यह भी कहा की “अलमियामार मस्जिद तीसरी ऐतिहासिक मस्जिद है जिसे राजा अब्दुल अज़ीज़ के खर्च पर पुनर्स्थापित किया गया है, ऐतिहासिक ताबाब मस्जिद के और ऐतिहासिक अल- जेद्दाह में शाफी मस्जिद के बाद अलमियामार वह मस्जिद है जिसे पुनर्स्थापित किया गया है.”

सौजन्य से-अरब न्यूज

3000 से अधिक मस्जिद 

अरब न्यूज के अनुसार प्रिंस सुल्तान ने कहा की “देश में 3,000 से अधिक ऐतिहासिक मस्जिद स्थित हैं और 200 राज्य भर में बहाल की गयी हैं जिनमे से 10 जेद्दाह में हैं. उन्होंने कहा कि “इस्लामी वास्तुकला और इंजीनियरिंग के कई छात्रों ने बहाली कार्यों में भाग लिया था.”

उन्होंने कहा कि एससीटीएच ऐतिहासिक और पुरातात्विक स्थलों को बहाल करने में सक्षम नागरिकों की एक नई पीढ़ी बनाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है. उन्होंने कहा की ” मस्जिदों की बहाली न केवल स्थानों को पुनर्निर्माण करने के लिए बल्कि लोगों को इन स्थानों पर भी लाती है और यह पर्यटन के लिए जरुरी भी है.”

सौजन्य से-अरब न्यूज

उन्होंने कहा की “पूरे देश में ऐतिहासिक मस्जिदों की बहाली के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम 1,140 से अधिक ऐतिहासिक मस्जिदों को स्थापित कर रहा है, 80 को पुनर्स्थापित कर रहा है, प्राथमिकता लक्ष्य मस्जिदों (130 ऐतिहासिक मस्जिदों) को सूचीबद्ध करता है .”