रियाद: अगर ईरान पड़ोसी अरब देशों के साथ प्रॉक्सी युद्धों में शामिल है, तो मध्य पूर्व में शांति और स्थिरता को खत्म कर रहा है. खाड़ी सहयोग परिषद (जीसीसी) के प्रतिनिधियों ने चेतावनी दी है.

अरब न्यूज़ के  मुताबिक, जीसीसी की स्थापना की 37 वीं वर्षगांठ पर जारी बयान में, प्रतिनिधियों ने यमन संघर्ष में ईरान की भूमिका की आलोचना की और तेहरान हुती विद्रोही को निरंतर समर्थन दे रहा है. जिन्होंने अब तक सऊदी अरब में 100 से अधिक बैलिस्टिक मिसाइलों से हमले किये है.

सऊदी अधिकारियों का कहना है हुती विद्रोही आयर दिन सऊदी पर मिसाइल हमले करते रहते है. जीसीसी सचिव-जनरल अब्दुल्लतीफ अल-जयानी ने कहा कि, “इस क्षेत्र में सुरक्षा और स्थिरता बनाए रखना खाड़ी राज्यों की पहली प्राथमिकता है.” सभी अरब देश मिडिल ईस्ट में शांति बनाये रखने के लिए कई प्रयास कर रहे है.

अल-जयानी ने कहा कि उन्होंने सामूहिक लक्ष्यों को प्राप्त करने और सुप्रीम काउंसिल के प्रस्तावों को लागू करने के लिए जीसीसी जनरल सचिवालय का समर्थन करने में सऊदी नेतृत्व की महत्वपूर्ण भूमिका की सराहना की. उन्होंने ईरान से कहा कि “अरब राष्ट्रों के मामलों में दखल देने से बचने के लिए, और दुनिया के सबसे बुरे मानवीय संकट से यमन को बचाने के लिए हुती विद्रोहियों को हथियारों और गोला बारूद की आपूर्ति करना बंद कर दें.”

अरब नामा को मिली जानकारी के मुताबिक, ब्रिटिश संसद में “यमन पर अखिल पार्टी संसदीय समूह (एपीजीजी) ने पिछले बुधवार को युद्ध के संकटग्रस्त देश की स्थिति पर अपनी वार्षिक रिपोर्ट जारी की और कहा की यमन में ग्रहयुद्ध के पीछे ईरान का हाथ है.”

एपीजीजी ने पाया कि “गैर-राज्य कलाकारों के साथ सहयोग ईरान की विदेश नीति का एक अभिन्न हिस्सा है जिसके माध्यम से वह इस क्षेत्र में सत्ता को मजबूत करना चाहता है.” इस रणनीति के उदाहरणों के रूप में, समूह ने लेबनान स्थित आतंकवादी संगठन हिज़बुल्लाह के लिए ईरान के समर्थन का नाम दिया, साथ ही ईरान सीरिया की भी मदद कर रहा है.

उन्होंने आगे कहा कि “यमन में पश्चिमी और सऊदी प्रभाव को कमजोर करने की अपनी इच्छा के संदर्भ में युद्ध के खिलाफ ईरान का रुख तय किया जाना चाहिए.”