जेद्दा: हाजियों ने सुरक्षित रूप से खाना ए काबा की आख़िरी रस्म यानी तवाफ़ अल विदा के साथ अपने हज को पूरा करने के लिए मक्का की ग्रैंड मस्जिद में वापस जाने से पहले रविवार को मीना में जमरात पुल पर आखिरी दिन की शैतान को पत्थर मारने वाली रस्म अदाकी थी।

Ameeen

Masjid Al Haram ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಭಾನುವಾರ, ಆಗಸ್ಟ್ 2, 2020

कल हज पूरा हो गया है और तवाफ़ अल विदा हज की आखिरी रस्म है। जिसके बाद हाजियों ने रो रो कर अल्लाह से मग़फिरत की दुआ की। यह फोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर आते ही वायरल हो गए और देखने वाले भी दुआओं का यह नजारा देखकर रो पड़े।

हाजियों ने नामित दरवाजे के माध्यम से ग्रैंड मस्जिद में प्रवेश किया और एक दूसरे के बीच सुरक्षित दूरी बनाए रखने के लिए चिह्नित रास्तों का पालन करना आवश्यक था।

इस बीच, मंत्रालय ने पुष्टि की कि हज यात्रा के पांचवें दिन हज के पवित्र स्थलों पर तीर्थयात्रियों के बीच कोरोनोवायरस संक्रमण की कोई रिपोर्ट नहीं है।

हज और उमराह के उप मंत्री डॉ. अब्दुलफत्ता बिन सुलेमान मशात ने कहा कि हज की रस्में ख’त्म होने के बाद, हाजियों का चिकित्सकीय परीक्षण किया गया।