ज़िल-हिज्जह के महीने की पहली रात अल्लाह के घर को ईहराम बांधने (काबा के चार कोनों पर फैला हुआ सफेद कपड़ा) के साथ और जेद्दा में किंग अब्दुलअजीज अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर ज़ायरीनों के पहले क़ाफ़िले के आगमन के साथ 1441 का हज शुरू हुआ।

हाजियों ने खाना ए काबा का तवाफ़ किया और अल्लाह से दुआ रहमत और मग़फिरत की दुआ की। हरम से लाइव प्रसारित हुए हज को दुनियाभर के लाखों मुस्लिमों ने देखा और अल्लाह से हज क़ूबूल अता फरमाने की दुआ की।

इस साल पिछले सालों के हज से काफी अलग है क्योंकि इस साल घा’तक कोरोना वायरस के ख’तरे के कारण, सऊदी सरकार सिर्फ 1,000 नागरिक और प्रवासी ही हज करेंगें।

मदीना, रियाद, अब्हा, तबूक और जज़ान शहरों से जेद्दा में पहुंचने के बाद, ज़ुयूफ़ अल-रहमान ने तुरंत मक्का पंहुचे और अपने कोरनटाइन के समाप्त के बाद, वे 8 ज़िल-हिज्जह को मिना चले जाएंगे।

Masjid Al Haram ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಬುಧವಾರ, ಜುಲೈ 29, 2020

सऊदी परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 


न्यूज़ अरेबिया एकमात्र न्यूज़ पोर्टल है जो अरब देशों में रह रहे भारतीयों से सम्बंधित हर एक खबर आप तक पहुंचाता है इसे अधिक बेहतर बनाने के लिए डोनेट करें
डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here