जेद्दाह – जेद्दा में आपराधिक अदालत ने व्हाट्सएप, स्नैपचैट और अन्य सोशल मीडिया माध्यमों के माध्यम से आ’पत्तिज’नक संदेश भेजकर अपने पूर्व पति को अ’पमा’नित करने का दो’षी पाए जाने के बाद सऊदी तलाक देने वाले को तीन दिन की जेल की स’जा सुनाई है।

अदालत ने कहा कि महिला ने अपने संदेशों में उस व्यक्ति के साथ पांच साल से अधिक समय से तला’कशु’दा भाषा का प्रयोग किया है।

अदालत ने महिला को इस तरह के संदेश भेजकर अपने पूर्व के साथ फिर से दु’र्व्यव’हार नहीं करने का वचन दिया।

यह भी कहा कि महिला ने अपने मूल की याद दिलाने के लिए कई संदेशों में न’स्ल’वा’दी भाषा का इस्तेमाल किया। उसने उसे असभ्य, बेपनाह और शैतानी बताया।

अदालत ने पुरुष और महिला को सुलह समिति के पास भेज दिया लेकिन उन्होंने सुलह से इनकार कर दिया।

महिला ने यह कहते हुए खुद का बचाव किया कि उसका पूर्व पति उसे और उसके परिवार को पीटता था, जबकि वे अभी भी उनके साथ बदतमीजी करके शादी कर रहे थे।

उसने स्वीकार किया कि उसने उसे अ’पमा’नजन’क संदेश भेजे, जो अदालत ने उसके मोबाइल फोन पर और उसके पूर्व पति को मिल गए।