प्रतीत यह हो रहा है कि इंडोनेशिया के धर्मगुरूओं के इस्लामी संगठन ने सऊदी अरब के राजदूत को निकाले जाने की जो मांग की है वह सऊदी अरब में काम करने वाले इंडोनेशियाई नागरिकों के साथ सऊदी सरकार और इस देश के अरब अधिकारियों व ज़िम्मेदारों के बर्ताव से असंबंधित नहीं है।

इंडोनेशिया के धर्मगुरूओं के संगठन ने इस देश से सऊदी अरब के राजदूत को तुरंत निकाले जाने की मांग की है।

इंडोनेशिया के धर्मगुरूओं का संगठन इस देश का सबसे बड़ा संगठन है और उसने इस देश के आंतरिक मामलों में सऊदी अरब के राजदूत पर हस्तक्षेप का आरोप लगाया और इस देश की सरकार से सऊदी अरब के राजदूत को तुरंत निकाले जाने की मांग की है।

प्रतीत यह हो रहा है कि इंडोनेशिया के धर्मगुरूओं के इस्लामी संगठन ने सऊदी अरब के राजदूत को निकाले जाने की जो मांग की है वह सऊदी अरब में काम करने वाले इंडोनेशियाई नागरिकों के साथ सऊदी सरकार और इस देश के अरब अधिकारियों व ज़िम्मेदारों के बर्ताव से असंबंधित नहीं है।

प्राप्त रिपोर्टों के अनुसार सऊदी अरब में काम करने वाले इंडोनेशियाई नागरिकों में से कुछ के सिर कलम करने की ख़बर के प्रकाशित होने से इंडोनेशिया के लोग आले सऊद से बहुत घृणित और क्रोधित हैं।

यद्यपि सऊदी अरब के इस अपराध पर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति ने भी प्रतिक्रिया दिखाई है और उसकी भर्त्सना की है पंरतु इंडोनेशिया के धर्मगुरूओं के इस्लामी संगठन के अनुसार यह कार्य काफी नहीं है और उसने इस देश की सरकार का आह्वान किया है कि वह जल्द से जल्द सऊदी अरब के राजदूत ओसामा बिन मोहम्मद अश्शुएबी को इंडोनेशिया से निकाल कर देश से बाहर रहने वाले नागरिकों की प्रतिष्ठा की सुरक्षा करे।