अमेरिका की ऊर्जा संस्थान ने एलान किया है कि ईरान पर प्रतिबंध लगने से तेल के मूल्यों में वृद्धि हो जाएगी. शिनहुआ समाचार एजेन्सी के अनुसार अमेरिका की ऊर्जा संस्था ईआईए ने एलान किया है कि ईरान पर प्रतिबंधों से जहां संसार की मंडियों में तेज़ी से उतार-चढ़ाव पैदा होगा वहीं पर तेल की क़ीमत बहुत बढ़ जाएगी।

ईआईए के अनुसार पिछले सितंबर में जो तेल 70 डाॅलर प्रति बैरेल था वह प्रतिबंधों के बाद 81 डाॅलर प्रति बैरेल से अधिक हो जाएगा। अमेरिका ने फैसला किया है कि वह 4 नवंबर 2018 से ईरान के तेल निर्यात पर प्रतिबंध लगाएगा। इन प्रतिबंधों से वाइटहाउस का लक्ष्य, ईरान के तेल निर्यात को शून्य तक पहुंचाना है।

अमेरिका के प्रतिबंधों और धमकियों के बावजूद वाइट हाउस के पश्चिमी घटक, ईरान के साथ व्यापारिक लेनदेन बाक़ी रखने के इच्छुक हैं।  इसी बीच ईरान से तेल आयात करने वाले मुख्य देशों ने एलान किया है कि वे ईरान से तेल आयात करना जारी रखेंगे।