भारत में आये दिन किसी ना किसी लड़की के साथ रे”प की घ’टना घट जाती है और भारत देश में कोई भी कानून बला’तका”री को स’ज़ा नही देता जबकि दूसरे देशों में आ’रोपी को स’ज़ा ए मौ’त दी जाती है।

अगर हम सऊदी अरब देश की बात करें तो यहां छोटे से छोटे जुर्म की भी बड़ी स’ज़ा दी जाती है। जिसके बाद आ’रोपी आरो’प करने की सोचता भी नही। ऐसे ही अगर भारत मे किया जाये तो कोई भी आ’रोप ना हो। कुछ लोग तो सउदी अरब जैसा कानून लाने की बात भी कह रहे हैं जहां 24 घंटे के भीतर ही अपरा’धी को फां’सी की स’जा हो जाए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, अब हमारे देश के कानून के अनुसार कोई व्यक्ति यदि किसी महिला के साथ ब’लात्कार करने वाले आ’रोपी के खिलाफ धारा 376 के तहत मु’कदमा चलाया जाता। आईपीसी की इस धारा के तहत यदि किसी दो’षी के खिलाफ अप’राध सिद्ध हो जाता है तो उसे कम से कम पाच साल की स’जा और 10 साल तक की कड़ी स’जा दिए जाने का प्रावधान है।

वैसे दुनिया के कई देशों में इस अप’रा’ध के लिए ऐसा कानून है जहां इस अपरा’ध के लिए 24 घंटे के अंदर अंदर स’जा ए मौ’त दे दी जाती है। अगर हम संयुक्त अरब अमीरत में ब’ला’त्का’री को सीधे मौ’त की स’जा सुना दी जाती है। यूएई के कानून के अनुसार यदि कोई इस तरह का अ’परा’ध करता है तो उसे सात दिनों के अंदर ही फां’सी की स’जा सुना दी जाती है।

वहीं अगर सऊदी अरब में शरीया कानून लागू है। इसके मुताबिक रे’प करने वाले को या तो चौराहे पर फां’सी पर टां’ग दिया जाता है या उसके गुप्त अं’गो को का’ट दिया जाता है। चीन में कैपिटल पनि’शमेंट दी जाती है। इस कानून के तहत रे’प की स’जा में कई लोगों को मौ’त के घा’ट उतार दिया गया है।