भारत सरकार ने भारत मुस्लिम बहुल क्षेत्र, असम में इस्लामिक स्कूलों पर प्र’तिबं’ध लगा दिया है। वर्तमान में प्रधान मंत्री मोदी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) द्वारा शासित है। सरकार ने असम के सभी मद’रसों पर प्र’तिबं’ध लगाने के लिए कानून पारित किया।

भारत में वि’पक्षी दलों ने कानून की आ’लोच’ना की है और कहा है कि यह देश में हिं’दुओं द्वारा शासित भारत सरकार के मुस्लिम विरो’धी को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार सभी इस्ला’मिक स्कूलों को नियमित स्कूलों में बदल देगी, और ये स्कूल अब कोई धा’र्मिक शिक्षा प्रदान नहीं करेंगे।

विप’क्षी राजनीतिक दलों ने कहा है कि यह कानून मुसलमानों के खि’लाफ एक कदम है। कांग्रेस पार्टी के एक विधायक, वाजेद अली चौधरी ने कहा, यह विचार “मुसल’मानों का सफाया करने” की एक चाल है।

100 से अधिक सेवानिवृत्त वरिष्ठ राजनयिकों और सिविल सेवकों ने उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सरकार को एक नया कानून निरस्त करने के लिए प्रेरित किया है ताकि यह दुल्हनों को बलपूर्वक धर्मांतरण के लिए एक अप’राध बना दे, जिसका उद्देश्य मुसलमानों की ओर भी है, जिसे लव जिहाद के रूप में भी जाना जाता है।