भारत एक ऐसा देश है जहां भान्ती भांति के लोग रहते है और सभी एक दूसरे के धर्म का सम्मान करते है । हाल ही में केरल के कोझिकोड जिले के एक गांव के मुस्लिमों ने अभूतपूर्व कदम उठाया। वे पैगंबर साहब के जन्मदिन का जश्न मिलाद-उन-नबी एक हफ्ते बाद आज यानी रविवार को मनाएंगे।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक,असल में 10 नवंबर को पड़ने वाले इस त्योहार पर होने वाले कार्यक्रम को गांव के मुसलमानों ने टालने का फैसला किया था। अब हम आपको इसके पीछे की वजह बताते है, मस्जिद के सामने रहने वाले हिन्दू परवार को शादी में कोई दिक्कत ना हो इसलिए मुस्लिमों द्वारा यह कदम उठाया गया।

वहीं आपको बता दें कि, केरल की जामा मस्जिद जे ठीक सामने हिन्दू परिवार का घर है और यह शादी पिछले हफ़्ते हुई। सूत्रों के मुताबिक, स्थानीय महालू कमेटी के सचीव एन सी अब्दुलरहीमन ने बताया कि हिन्दू परिवार ने पहले से ही 10 तारिख तय की हुई थी।

उन्होंने बताया की हिन्दू परिवार को इस बात की जानकारी नही थी उसी दिन मिलाद उन नबी भी था। इसलिए मस्जिद द्वारा यह फैसला लिया गया कि मिलाद उन नबी का कार्यक्रम बाद मैं किया जाए।