तुर्की और अमेरिका के बीच इन दिनों करारी लडाई जारी है जो थमने का नाम नहीं ले रही है. अमेरिका द्वारा तुर्की पर लगाये गये प्रतिबंधों के बाद दोनों देशों के रिश्ते और भी बिगड़ते नजर आ रहे है. हालाँकि तुर्की ने भी अमेरिका को उसकी मनमानी का मुहतोड़ जवाब दिया है और अमेरिकी उत्पादों का बहिष्कार शुरू कर दिया है.

अमेरिका-तुर्की मतभेद का असर UN असेंबली में देखने को मिला जब ट्रम्प 124 देशों के सामने सभा में अमेरिकी उपलब्धि पर भरण दे रहे है उस दौरान एर्दोगान और सभी तुर्की अधिकारी सभा से बाहर चले गये. यह एर्दोगान की नाराजगी है जो UN में भी नज़र आई. आपको बता दें की एर्दोगान ने अमेरिका को उसकी मंमानो के खिलाफ चेतावनी भी दी है.

UN में एर्दोगान ने मंगलवार को कहा था कि उनका देश अमेरिका द्वारा हथियारों के रूप में प्रतिबंधों के इस्तेमाल पर चुप नहीं रह सकता है, जबकि तुर्की संयुक्त राज्य अमेरिका के साथ अंकारा द्वारा हिरासत में रखे अमेरिकी ईसाई धर्म के ईसाई पादरी के भाग्य पर कड़ा रुख अपनाने को तैयार है.

तुर्की ने अमेरिकी कारों, शराब और तंबाकू के आयात पर टैरिफ भी दोगुना कर दिया है. वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया को मिली जानकारी के मुताबिक, एर्दोगान ने कहा की अमेरिका का सुलूक अब बर्दाश्त के काबिल नहीं रहा.