पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा है कि भारत और पाकिस्तान 2015 से निलंबित किए गए वार्ता को फिर से शुरू करने पर सहमति ज़ाहिर की है. प्रधान मंत्री को ” डियर मोदी साहब” के रूप में संबोधित करते हुए पत्र में इमरान खान भी विदेश मंत्रियों के बीच एक बैठक का सुझाव दिया.

पाकिस्तानी प्रधान मंत्री ने लिखा कि आतंकवाद पर चर्चा के लिए पाकिस्तान “तैयार है”. इमरान खान ने लिखा की हमू फिर से भारत के साथ शांति वार्ता शुरू करने चाहते है. पिछले महीने शपथ ग्रहण करने के बाद पीएम मोदी के पत्र का जिक्र करते हुए इमरान खान ने कहा कि उन्होंने अपनी भावना का समर्थन किया कि दोनों देशों के लिए एकमात्र रास्ता रचनात्मक वार्ता में निहित है.

 

आपको बता दें कि, अपने विजय भाषण में, क्रिकेट खिलाड़ी से बनने वाले राजनेता ने कहा था कि यदि “भारत अगर वार्ता के लिए एक कदम बढ़ाएगा तो पाकिस्तान दो कदम आगे आएगा. “

इमरान ने आगे लिखा कि, हम चाहते हैं कि दोनों देशों के बीच एक आपसी संबंध बने और शांति कायम हो. इसलिए मैं पाकिस्तान के विदेश मंत्री मखदूम शाह महमूद कुरैशी और भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के बीच मीटिंग का प्रस्ताव रखता हूं. ये मीटिंग न्यूयॉर्म में होने वाली यूएन जनरल असेंबली के अलावा हो. इस मीटिंग में आगे के रास्ते निकल सकते हैं. खासकर इस्लामाबाद में होने वाली सार्क समिट से पहले ये एक बड़ी पहल होगी. ये समिट मौका होगा, जब आप पाकिस्तान की यात्रा करें और बातचीत के आगे के रास्ते खुलें.