इन दिनों दुनिया भर में इस्लामोफिबिया के कई मामले एजु से बढ़ हौ और इन मामलों में तेज़ी पश्चिमी देशों में साफ देखी जा सकती है। हाल ही में ब्रिटेन के एक इमाम को उनकी बहादुरी के लिए संम्मान से नवाजा गया है। आइए आपको इसकी वजह भी बता देते है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पूर्वी ब्रिटेन के व्हाइट चेपल इलाक़े की मस्जिद से नमाज़ पढ़ कर बाहर निकल रहे नमाज़ियों पर गाडी चढ़ाकर कुचलने के आ”रोपी श्वेत दक्षिणपं’थी को नाराज़ भीड़ से बचने वाले इमाम मोहम्मद महमूद को उनके बहादुरी के लिए ब्रिटेन के सबसे बड़े सम्मान से नवाज़ा गया।

इमाम के इस बहादुरी भरे कारनामें की वजह से प्रिंस विलियम ने ब्रिटेन के दूसरे सर्वोच्च सम्मान, ऑर्डर ऑफ द ब्रिटिश एम्पायर, Officer of the Order of the British Empire (OBE) से सम्मानित किया था। इमाम ने यह सम्मान इस्लामोफिबिया के खिलाफ लड़ाई के लिए हासिल है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बेटेन के इमाम को यह सम्मान जून’ 2017 को ब्रिटेन के फिन्सबरी पार्क मस्जिद में हुए आतंकी हमले में बहादुरी और सूझबूझ की वजह से मार्च’ 2019 को दिया गया था, जून 2017 को एक श्वेत द’क्षिण’पंथी हम’ला’वर डैरेन ओसबोर्न ने फिन्सबरी पार्क मस्जिद से नमाज़ पढ़कर बाहर निकल रहे नमाज़ियों पर अपनी गाड़ी चढ़ा दी थी जिससे एक व्यक्ति मुकर्रम अली की घ’टना’स्थल पर ही मौत हो गयी थे और 9 लोग घा’यल हो गए थे।